यूपी के विकास में मील का पत्थर होगा जेवर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट: सीएम योगी

जेवर हवाई अड्डे के लिए नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड को लीज़ पर दी गई 1,334 हेक्टेयर भूमि

नागरिक उड्डयन विभाग और के बीच एनआईएएल के बीच हुआ करार

ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल (एजी), यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रा.लि. और एनआईएएल के बीच हुआ शेयर होल्डर एग्रीमेंट

मुख्यमंत्री ने जताई खुशी, बोले प्रधानमंत्री मोदी का सपना होगा साकार

लखनऊ, 17 जुलाई: दुनिया के विशालतम हवाईअड्डों में से एक “नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा, जेवर” के निर्माण का काम जल्द ही शुरू होने जा रहा है। शनिवार का दिन इस लिहाज से बेहद खास रहा, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में जेवर एयरपोर्ट के लिए राज्य सरकार द्वारा नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल) को 1,334 हेक्टेयर जमीन 90 साल की लीज़ पर देने की औपचारिक प्रक्रिया पूरी की गई। साथ ही, एयरपोर्ट विकासकर्ता कंपनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल (एजी), यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रा.लि. और एनआईएएल के बीच शेयर होल्डर अनुबंध पत्र पर हस्ताक्षर भी हुए। अब अगले माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस एयरपोर्ट का शिलान्यास प्रस्तावित है।

शनिवार को मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी ने कोरोना महामारी के बीच भी जेवर एयरपोर्ट का कार्य समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ने पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि यह एयरपोर्ट न केवल उत्तर प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा, बल्कि देश में एयर कनेक्टिविटी को सर्वसुलभ और विश्वस्तरीय बनाने के सपने को नई उड़ान देने वाला भी होगा। सीएम ने कहा कि विगत 04 वर्ष के दौरान उत्तर प्रदेश के अंदर नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में काफी विकास हुआ है। 2017 तक उत्तर प्रदेश के अंदर मात्र चार एयरपोर्ट क्रियाशील थे। उनमें भी केवल लखनऊ और वाराणसी ही नियमित थे। बाकी गोरखपुर और आगरा से कभी-कभार ही उड़ान होती थी। आज हमारे 08 एयरपोर्ट प्रदेश के अंदर क्रियाशील हैं। जहां 2017 के पहले हम केवल लखनऊ और वाराणसी, गोरखपुर और आगरा से 25 गंतव्यों तक वायुसेवा थी, आज वह सेवा 03 गुना अधिक गंतव्य तक विस्तार ले चुकी है। यही नहीं, कुशीनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट हमारा कार्य लगभग पूरा हो चुका है और कभी भी हम इस एयरपोर्ट को इंटरनेशनल फ्लाइट के लिए प्रारंभ किया जा सकता है। इस अवसर पर प्रस्तुतिकरण का अवलोकन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि एयरपोर्ट टर्मिनल को भारतीय वस्तुकला का विशिष्ट नमूना बनाने की कोशिश होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब हम लोग जेवर एयरपोर्ट के बारे में चर्चा प्रारंभ की, तो लोगों में एक सकारात्मक संदेश गया था। लेकिन वहां फिर से वही लोग सक्रिय हो गए, जिन लोगों ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यमुना अथॉरिटी के बनते समय बिचौलिया बन करके विकास के कार्यों को बाधित किया था। ऐसे में जिला प्रशासन ने किसानों से सीधे बातचीत की। जेवर एयरपोर्ट परियोजना के अंतर्गत आने वाले सभी गांव के किसानों और स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों ने पूरा सहयोग दिया और अंततः बिना किसी विवाद के भूमि अधिग्रहण और पुनर्वास का काम पूरा हुआ। उन्होंने कहा कि यह वही क्षेत्र था जहां विकास परियोजनाओं के लिए गोलियां चलती थीं, जहां पर न केवल कानून व्यवस्था का भीषण संकट था, यहां बड़े-बड़े आंदोलन भी होते थे। लेकिन आज कितने शांतिपूर्ण तरीके से एक बहुत बड़े प्रोजेक्ट को लेकर के राज्य सरकार को सफलतापूर्वक आगे बढ़ रही है। जेवर एयरपोर्ट हमारे लिए भविष्य की संभावनाओं को आगे बढ़ाने का एक बेहतरीन माध्यम है, जो उत्तर प्रदेश को $1 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने में सहायक होगी।

इससे पहले नागरिक उड्डयन विभाग के मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी ने बीते चार साल में उत्तर प्रदेश ने नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में ऊंची उड़ान भरी है। प्रधानमंत्री मोदी ने हवाई चप्पल पहनने वाले व्यक्ति के लिए हवाई यात्रा सुलभ बनाने का सपना साकार हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश की वैश्विक पहचान बनेगा। कार्यक्रम में नागरिक उड्डयन विभाग के अधिकारी, यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ और ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल (एजी) के प्रतिनिधियों सहित शासन के अनेक अधिकारियों की उपस्थिति रही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button