करोना से शायर शकील गाजीपुरी का इंतकाल सदमे से बेटे की गई जान

गाजीपुर| करोना संक्रमण से जुझ रहे बुजुर्ग शायर शकील गाजीपुर का बुधवार दोपहर प्रयागराज में इंतकाल हो गया । उनके निधन की खबर लगते ही सदमे से 36 वर्षीय बेटे फौजी का भी दिल का दौरा पड़ने से जान चली गयी शकील गाजीपुर को ह्रदय रोग भी था। इसकी वजह से सिविल लाइंस के हार्ट लाइन चिकित्सालय में इलाज चल रहा था । उनके परिवार में पत्नी , दो बेटे और एक बेटी है । बेटे को भी करोना का इन्फेक्शन हुआ था । पिता और बेटे की मौत की खबर मिलते ही लोग स्तब्ध रह गये। अब दोनों की ईशा की नमाज के बाद काला डाडा कब्रिस्तान मे सुपुर्दे-खाक किया जा रहा है एक साथ पिता और पुत्र के निधन से घर के साथ मोहल्ले में भी गम का माहौल है उनके गांव में भी शोक को लहर दौड़ गई है ।
एक सितम्बर 1948 को गाजीपुर के वजिदपुर में जन्मे शकील गाजीपुर माध्यमिक शिक्षा परिषद् मे कार्य करते हुए सेवानिवृत्ति हुए थे। उनकी दो पुस्तकें `लम्हे लम्हे ख्वाब केʼ और ʼअभिलाशाʼ प्रकाशित हुई है ।आकाशवाणी और दूरदर्शन से भी उनकी गजलें समय समय पर प्रकाशित होती रही है ।उन्हे ‘शान-ए-इलाहाबाद सम्मान’, ‘प्रयाग गौरव सम्मान’, प्रयाग पुष्पम् सम्मान’ और सरदार अली जफरी’ एवार्ड प्रदान किये गये थे । शान-ए-इलाहाबाद सम्मान से 2018 मे गुफ्तगू की ओर से सम्मानित किया गया था ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button